Shri Shiva Chalisa - श्री शिवा चालीसा

Lord Shiva is the ultimate almighty; he is the supreme destroyer, the most powerful god of the Hindu and one of the godheads in the Hindu Trinity. Shiva is known by many names including ShivJi, Bhole Bhandari, Bhole Nath, Nageshwar, Neelkanth, Mahadeva, Mahayogi, Pashupati, Nataraja, Bhairava, Vishwanath. He is the cosmic dancer, clothed in tiger skin and covered in ash, with a serpent around his neck and his drums.

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजासुवन मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम देउ अभय वरदान॥

|| चालीसा ||

जय गिरिजापति दीनदयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नाग फनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन क्षार लगाये॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देखि नाग मन मोहे॥

मैना मातु कि हवे दुलारी। वाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

नंदी गणेश सोहैं तहं कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि कौ कहि जात न काऊ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा। तबहिं दु:ख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ। लव निमेष महं मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। तबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥

दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद माहि महिमा तुम गाई। अकथ अनादि भेद नहीं पाई॥

प्रकटे उदधि मंथन में ज्वाला। जरत सुरासुर भए विहाला॥
श्रीकीन्ह दया तहं करी सहाई। नीलकंठ तब नाम कहाई॥

पूजन रामचंद्र जब कीन्हां। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं त्रिपुरारी।





एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

जय जय जय अनंत अविनाशी। करत कृपा सबके घट वासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावैं। भ्रमत रहौं मोहे चैन न आवैं॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। यह अवसर मोहि आन उबारो॥
ले त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट से मोहिं आन उबारो॥

मात पिता भ्राता सब कोई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु मम संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदा ही। जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करों तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। शारद नारद शीश नवावैं॥

नमो नमो जय नमः शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पर होत हैं शम्भु सहाई॥

रनियां जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र होन की इच्छा जोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे॥
त्रयोदशी व्रत करै हमेशा। तन नहिं ताके रहै कलेशा॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्त धाम शिवपुर में पावे॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी। जानि सकल दु:ख हरहु हमारी॥

|| दोहा ||

नित नेम उठि प्रातः ही पाठ करो चालीस।
तुम मेरी मनकामना पूर्ण करो जगदीश॥

Lord Shiva is considered Anaadi(without a begining or end) Shiva(Mahesh) is the third god in the Hindu Trimurti(Brahma Vishnu and Mahesh). Brahma is the creator of the universe, Vishnu is the preserver and Shiva the destroyer in order to re-create it.

Featured Articles

Diwali Poojan Mantra – दीवाली पूजन मंत्र
Posted on Sunday October 01, 2017

  दीवाली हिन्‍दुओं का सबसे बड़ा त्‍योहार है और इस दिन सभी लोग अपने घर की सुख शांति और समृद्धि के लिए मां लक्ष्‍मी एवं भगवान गणेश का पूजन करते हैं। घर में साफ सफाई करते हैं। दीपावली की रात दीप जलाकर जगमगाहट करते हैं।  घर के मुख्य दरवाजे पर रंगोली बनाई जाती है | फूल,…

Deepavali (दीपावली) – Festival of Lights
Posted on Sunday October 01, 2017

ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभयो नमः।। दीवापली के मौके पर महालक्ष्मी और गणेश की पूजा का विशेष महत्व है | पूजन के बाद लक्ष्मी जी की आरती करना न भूलें। गणपति पूजन हाथ में पुष्प लेकर गणपति का ध्यान करें। मंत्र पढ़ें- गजाननम्भूतगणादिसेवितं कपित्थ जम्बू फलचारुभक्षणम्। उमासुतं शोक विनाशकारकं नमामि विघ्नेश्वरपादपंकजम्। अब एक फूल लेकर गणपति…

Goverdhan Pooja – गोवर्धन पूजा
Posted on Sunday October 01, 2017

Govardhan Puja is celebrated as the day when Lord Krishna defeated Lord Indra by lifting the hill Goverdhan on the little finger of his right hand. Everybody took shelter under the hill and their lives got saved. Goverdhan Pooja is also called as Annakut Pooja. Annakut refers to a mountain made of food. Chhappan Bhog, a dish…

MahaLaxmi Yantra – महालक्ष्मी यन्त्र – Diwali Pooja Yantra
Posted on Sunday October 01, 2017

Yantras are religious artworks and ritual designs based on the principles of symmetrical geometry and used for meditation and pooja. Shri Yantra is dedicated to Goddess Lakshmi. It gives relief from all sufferings and provide wealth and good fortune. नमस्तेस्तु महामाये श्रीपीठे सुरपूजिते। शङ्खचक्रगदाहस्ते महालक्ष्मी नमोस्तु ते ॥ Shri Maha Laxmi Mantra Jaap Om maha…

Saraswati (सरस्वती) – The Goddess of knowledge
Posted on Saturday September 30, 2017

Saraswati – The Hindu goddess of knowledge, music, arts and science. She is also called Vak Devi, the goddess of speech and Mother of Vedas. She is a part of the trinity of Saraswati, Lakshmi and Parvati. बसंत पंचमी पर महासरस्वती देवी का जन्मदिन मनाया जाता है । मां सरस्वती की कृपा से ही विद्या, बुद्धि,…

You might also like: