Shri Shiva Chalisa - श्री शिवा चालीसा

Lord Shiva is the ultimate almighty; he is the supreme destroyer, the most powerful god of the Hindu and one of the godheads in the Hindu Trinity. Shiva is known by many names including ShivJi, Bhole Bhandari, Bhole Nath, Nageshwar, Neelkanth, Mahadeva, Mahayogi, Pashupati, Nataraja, Bhairava, Vishwanath. He is the cosmic dancer, clothed in tiger skin and covered in ash, with a serpent around his neck and his drums.

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजासुवन मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम देउ अभय वरदान॥

|| चालीसा ||

जय गिरिजापति दीनदयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नाग फनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन क्षार लगाये॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देखि नाग मन मोहे॥

मैना मातु कि हवे दुलारी। वाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

नंदी गणेश सोहैं तहं कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि कौ कहि जात न काऊ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा। तबहिं दु:ख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ। लव निमेष महं मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। तबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥

दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद माहि महिमा तुम गाई। अकथ अनादि भेद नहीं पाई॥

प्रकटे उदधि मंथन में ज्वाला। जरत सुरासुर भए विहाला॥
श्रीकीन्ह दया तहं करी सहाई। नीलकंठ तब नाम कहाई॥

पूजन रामचंद्र जब कीन्हां। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं त्रिपुरारी।





एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

जय जय जय अनंत अविनाशी। करत कृपा सबके घट वासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावैं। भ्रमत रहौं मोहे चैन न आवैं॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। यह अवसर मोहि आन उबारो॥
ले त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट से मोहिं आन उबारो॥

मात पिता भ्राता सब कोई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु मम संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदा ही। जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करों तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। शारद नारद शीश नवावैं॥

नमो नमो जय नमः शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पर होत हैं शम्भु सहाई॥

रनियां जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र होन की इच्छा जोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे॥
त्रयोदशी व्रत करै हमेशा। तन नहिं ताके रहै कलेशा॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्त धाम शिवपुर में पावे॥

कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी। जानि सकल दु:ख हरहु हमारी॥

|| दोहा ||

नित नेम उठि प्रातः ही पाठ करो चालीस।
तुम मेरी मनकामना पूर्ण करो जगदीश॥

Lord Shiva is considered Anaadi(without a begining or end) Shiva(Mahesh) is the third god in the Hindu Trimurti(Brahma Vishnu and Mahesh). Brahma is the creator of the universe, Vishnu is the preserver and Shiva the destroyer in order to re-create it.

Featured Articles

Navaratri – the Festival of Nine Nights
Posted on Monday September 18, 2017

Navratri, the Festival of Nine Nights, is celebrated in honor of goddesses Durga, Lakshmi, and Saraswati. The festival is celebrated for nine nights every year in the Hindu month of Ashvin (September-October) although as the dates of the festival are according to the Hindu calendar (which is based on the Moon), the festival may be…

Saraswati (सरस्वती) – The Goddess of knowledge
Posted on Sunday August 27, 2017

Saraswati – The Hindu goddess of knowledge, music, arts and science. She is also called Vak Devi, the goddess of speech and Mother of Vedas. She is a part of the trinity of Saraswati, Lakshmi and Parvati. बसंत पंचमी पर महासरस्वती देवी का जन्मदिन मनाया जाता है । मां सरस्वती की कृपा से ही विद्या, बुद्धि,…

Ganesh Chaturthi (गणेश चतुर्थी)
Posted on Wednesday August 23, 2017

श्री गणेशाय नमः Ganesh Chaturthi or Ganesh Utsav is celebrated as the birthday of Lord Ganesh (the elephant-headed God of Wisdom and Prosperity and the son of Lord Shiva and Ma Parvati). This festival falls on the fourth day (Chaturthi) of the bright fortnight of Bhadrapada month of the Hindu calendar around August-September. It is celebrated…

Ae Malik Tere Bande Hum
Posted on Friday July 28, 2017

ए मालिक तेरे बंदे हम आएसए हो हुमारे करम नेकी पर चले, अओर बड़ी से तले, टांकी हसते हुए निकले दम ये अंधेरा घाना छ्छा रहा, तेरा इंसान घबरा रहा हो रहा बेख़बर, कुच्छ ना आता नज़र, सुख का सूरज छ्छूपा जेया रहा है तेरी रोशनी में जो दम तो अमावस को कर दे पूनम…

Shalokas
Posted on Thursday July 27, 2017

त्वमेव माता च पिता त्वमेव, त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव । त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव, त्वमेव सर्वं मम देव देव ॥ TVAMEVA MAATAA CHA PITAA TVAMEVA, TVAMEVA BANDHUSHSHA SAKHAA TVAMEVA TVAMEVA VIDYAA DRAVINA.N TVAMEVA, TVAMEVA SARVA.N MAMA DEVA DEVA MEANING:Address to God, You are my mother, my father, my brother, and my friend. You are my…

You might also like: