Shri Shani Chalisa - श्री शनि चालीसा

Shani Dev is one of the most popular deities that the Hindus pray to ward off evil and remove obstacles. Shani occupies the seventh place among the nine planets. Shani is embodied in the planet Saturn and is the Lord of Saturday. Shani is the son of Surya and his wife Chhaya and hence also known as Chayyaputra. Lord Shanidev is Brother of Yum, the Hindu God of death. Shani-dev is depicted wearing blue or black robes, having dark complexion and riding a vulture or on an iron chariot drawn by eight horses. Shani occupies the seventh place among the nine planets which govern the world.

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।
करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥
चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥
परम विशाल मनोहर भाला। टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥
कुण्डल श्रवण चमाचम चमके। हिय माल मुक्तन मणि दमके॥1॥

कर में गदा त्रिशूल कुठारा। पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥
पिंगल, कृष्ो, छाया नन्दन। यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥
सौरी, मन्द, शनी, दश नामा। भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥
जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं। रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥2॥

पर्वतहू तृण होई निहारत। तृणहू को पर्वत करि डारत॥
राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो। कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥
बनहूँ में मृग कपट दिखाई। मातु जानकी गई चुराई॥
लखनहिं शक्ति विकल करिडारा। मचिगा दल में हाहाकारा॥3॥

रावण की गतिमति बौराई। रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई॥
दियो कीट करि कंचन लंका। बजि बजरंग बीर की डंका॥
नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा। चित्र मयूर निगलि गै हारा॥
हार नौलखा लाग्यो चोरी। हाथ पैर डरवाय तोरी॥4॥

भारी दशा निकृष्ट दिखायो। तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥
विनय राग दीपक महं कीन्हयों। तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥
हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी। आपहुं भरे डोम घर पानी॥
तैसे नल पर दशा सिरानी। भूंजीमीन कूद गई पानी॥5॥




श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई। पारवती को सती कराई॥
तनिक विलोकत ही करि रीसा। नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥
पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी। बची द्रौपदी होति उघारी॥
कौरव के भी गति मति मारयो। युद्ध महाभारत करि डारयो॥6॥

रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला। लेकर कूदि परयो पाताला॥
शेष देवलखि विनती लाई। रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥
वाहन प्रभु के सात सजाना। जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥
जम्बुक सिंह आदि नख धारी।सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥7॥

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं। हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥
गर्दभ हानि करै बहु काजा। सिंह सिद्धकर राज समाजा॥
जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै। मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥
जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी। चोरी आदि होय डर भारी॥8॥

तैसहि चारि चरण यह नामा। स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा॥
लौह चरण पर जब प्रभु आवैं। धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥
समता ताम्र रजत शुभकारी। स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी॥
जो यह शनि चरित्र नित गावै। कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥9॥

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला। करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥
जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई। विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥
पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत। दीप दान दै बहु सुख पावत॥
कहत राम सुन्दर प्रभु दासा। शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥10॥

॥दोहा॥

पाठ शनिश्चर देव को, की हों भक्त तैयार।
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार॥

Indians love celebrating every little occasion from the harvesting of crops, welcoming the spring or rain, to seeing the full moon lends itself to joyous celebrations splashed with colors, music, folk dances and songs. India is a land of great diversity and known all over the world as a country of cultural and traditional festivals as it has many cultures, languages and religions.

Featured Articles

Navaratri – the Festival of Nine Nights
Posted on Monday September 18, 2017

Navratri, the Festival of Nine Nights, is celebrated in honor of goddesses Durga, Lakshmi, and Saraswati. The festival is celebrated for nine nights every year in the Hindu month of Ashvin (September-October) although as the dates of the festival are according to the Hindu calendar (which is based on the Moon), the festival may be…

Saraswati (सरस्वती) – The Goddess of knowledge
Posted on Sunday August 27, 2017

Saraswati – The Hindu goddess of knowledge, music, arts and science. She is also called Vak Devi, the goddess of speech and Mother of Vedas. She is a part of the trinity of Saraswati, Lakshmi and Parvati. बसंत पंचमी पर महासरस्वती देवी का जन्मदिन मनाया जाता है । मां सरस्वती की कृपा से ही विद्या, बुद्धि,…

Ganesh Chaturthi (गणेश चतुर्थी)
Posted on Wednesday August 23, 2017

श्री गणेशाय नमः Ganesh Chaturthi or Ganesh Utsav is celebrated as the birthday of Lord Ganesh (the elephant-headed God of Wisdom and Prosperity and the son of Lord Shiva and Ma Parvati). This festival falls on the fourth day (Chaturthi) of the bright fortnight of Bhadrapada month of the Hindu calendar around August-September. It is celebrated…

Ae Malik Tere Bande Hum
Posted on Friday July 28, 2017

ए मालिक तेरे बंदे हम आएसए हो हुमारे करम नेकी पर चले, अओर बड़ी से तले, टांकी हसते हुए निकले दम ये अंधेरा घाना छ्छा रहा, तेरा इंसान घबरा रहा हो रहा बेख़बर, कुच्छ ना आता नज़र, सुख का सूरज छ्छूपा जेया रहा है तेरी रोशनी में जो दम तो अमावस को कर दे पूनम…

Shalokas
Posted on Thursday July 27, 2017

त्वमेव माता च पिता त्वमेव, त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव । त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव, त्वमेव सर्वं मम देव देव ॥ TVAMEVA MAATAA CHA PITAA TVAMEVA, TVAMEVA BANDHUSHSHA SAKHAA TVAMEVA TVAMEVA VIDYAA DRAVINA.N TVAMEVA, TVAMEVA SARVA.N MAMA DEVA DEVA MEANING:Address to God, You are my mother, my father, my brother, and my friend. You are my…

You might also like: