Shri Hanuman Chalisa - श्री हनुमान चालीसा

Lord Hanuman is one of the most popular and revered Hindu deities, is also recognized as the Monkey-God. He is a reincarnation of Lord Shiva and ardent devotee of Lord Rama, seventh avatar of the God Vishnu. Hanuman is an ardent devotee of Rama. Lord Hanuman is the one of the bravest and most powerful characters in the epic Ramayana. Shri Bajrangbali was born in a Vanar family based in Kishigandha. His father was Pawan (God of Wind), and his mother Anjani.

श्रीगुरु चरण सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि
बरनउँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमारा
बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकारा

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर | जय कपीस तिहुँ लोक उजागर
राम दूत अतुलित बल धामा | अंजनि पुत्र पवनसुत नामा
महाबीर बिक्रम बजरंगी | कुमति निवार सुमति के संगी
कंचन बरन बिराज सुबेसा | कानन कुंडल कुँचित केसा
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजे | काँधे मूँज जनेऊ साजे
शंकर सुवन केसरी नंदन | तेज प्रताप महा जगवंदन
विद्यावान गुनी अति चातुर | राम काज करिबे को आतुर
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया | राम लखन सीता मन बसिया
सूक्ष्म रूप धरि सियहि दिखावा | विकट रूप धरि लंक जरावा

भीम रूप धरि असुर सँहारे | रामचंद्र के काज सँवारे
लाय संजीवन लखन जियाए | श्रीरघुबीर हरषि उर लाए
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई | तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई
सहस बदन तुम्हरो जस गावै | अस कहि श्रीपति कंठ लगावै
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा | नारद सारद सहित अहीसा
जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते | कवि कोविद कहि सके कहाँ ते
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा | राम मिलाय राज पद दीन्हा
तुम्हरो मंत्र बिभीषण माना | लंकेश्वर भये सब जग जाना
जुग सहस्त्र जोजन पर भानू | लिल्यो ताहि मधुर फ़ल जानू
प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं | जलधि लाँघि गए अचरज नाहीं

Pawan Putra Hanumaan

दुर्गम काज जगत के जेते | सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते
राम दुआरे तुम रखवारे | होत ना आज्ञा बिनु पैसारे
सब सुख लहैं तुम्हारी सरना | तुम रक्षक काहु को डरना
आपन तेज सम्हारो आपै | तीनों लोक हाँक तै कापै
भूत पिशाच निकट नहिं आवै | महावीर जब नाम सुनावै
नासै रोग हरे सब पीरा | जपत निरंतर हनुमत बीरा
संकट तै हनुमान छुडावै | मन क्रम वचन ध्यान जो लावै
सब पर राम तपस्वी राजा | तिन के काज सकल तुम साजा
और मनोरथ जो कोई लावै | सोई अमित जीवन फल पावै
चारों जुग परताप तुम्हारा | है परसिद्ध जगत उजियारा

साधु संत के तुम रखवारे | असुर निकंदन राम दुलारे
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता | अस बर दीन जानकी माता
राम रसायन तुम्हरे पासा | सदा रहो रघुपति के दासा
तुम्हरे भजन राम को पावै | जनम जनम के दुख बिसरावै
अंतकाल रघुवरपुर जाई | जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई
और देवता चित्त ना धरई | हनुमत सेई सर्व सुख करई
संकट कटै मिटै सब पीरा | जो सुमिरै हनुमत बलबीरा
जय जय जय हनुमान गोसाई | कृपा करहु गुरुदेव की नाई
जो सत बार पाठ कर कोई | छूटहिं बंदि महा सुख होई
जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा | होय सिद्धि साखी गौरीसा
तुलसीदास सदा हरि चेरा | कीजै नाथ हृदय महा डेरा

पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप | राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप

God Hanuman is the incarnation of Lord Shiva. He is a great devotee of Lord Rama. Hanuman is famous for his help to Rama in the war with Ravana. He is the son of Anjana (अंजनि पुत्र) and Kesari (केसरी नंदन).

Featured Articles

Navaratri – the Festival of Nine Nights
Posted on Monday September 18, 2017

Navratri, the Festival of Nine Nights, is celebrated in honor of goddesses Durga, Lakshmi, and Saraswati. The festival is celebrated for nine nights every year in the Hindu month of Ashvin (September-October) although as the dates of the festival are according to the Hindu calendar (which is based on the Moon), the festival may be…

Saraswati (सरस्वती) – The Goddess of knowledge
Posted on Sunday August 27, 2017

Saraswati – The Hindu goddess of knowledge, music, arts and science. She is also called Vak Devi, the goddess of speech and Mother of Vedas. She is a part of the trinity of Saraswati, Lakshmi and Parvati. बसंत पंचमी पर महासरस्वती देवी का जन्मदिन मनाया जाता है । मां सरस्वती की कृपा से ही विद्या, बुद्धि,…

Ganesh Chaturthi (गणेश चतुर्थी)
Posted on Wednesday August 23, 2017

श्री गणेशाय नमः Ganesh Chaturthi or Ganesh Utsav is celebrated as the birthday of Lord Ganesh (the elephant-headed God of Wisdom and Prosperity and the son of Lord Shiva and Ma Parvati). This festival falls on the fourth day (Chaturthi) of the bright fortnight of Bhadrapada month of the Hindu calendar around August-September. It is celebrated…

Ae Malik Tere Bande Hum
Posted on Friday July 28, 2017

ए मालिक तेरे बंदे हम आएसए हो हुमारे करम नेकी पर चले, अओर बड़ी से तले, टांकी हसते हुए निकले दम ये अंधेरा घाना छ्छा रहा, तेरा इंसान घबरा रहा हो रहा बेख़बर, कुच्छ ना आता नज़र, सुख का सूरज छ्छूपा जेया रहा है तेरी रोशनी में जो दम तो अमावस को कर दे पूनम…

Shalokas
Posted on Thursday July 27, 2017

त्वमेव माता च पिता त्वमेव, त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव । त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव, त्वमेव सर्वं मम देव देव ॥ TVAMEVA MAATAA CHA PITAA TVAMEVA, TVAMEVA BANDHUSHSHA SAKHAA TVAMEVA TVAMEVA VIDYAA DRAVINA.N TVAMEVA, TVAMEVA SARVA.N MAMA DEVA DEVA MEANING:Address to God, You are my mother, my father, my brother, and my friend. You are my…